Monday, December 19, 2022

बिहार में जहरीली शराब से अब तक 53 लोगों की मौत, थानेदार और चौकीदार सस्पेंड

बिहार के छपरा में जहरीली शराब पीने से अब तक 53 लोगों की मौत हो चुकी है। इसी बीच मामले में नया खुलासा हुआ है। जानकारी के मुताबिक थाने में जब्त स्प्रिट के कंटेनर से बड़ी मात्रा में स्प्रिट गायब है। शक है कि इसी से ये जहरीली शराब बनी थी, जिसे पीकर मौतें हुईं। ये कहीं और से नहीं बल्कि थाने से सप्लाई की गई थी। इस बात के सबूत के तौर पर ग्रामीणों ने वीडियो बनाकर एक्साइज डिपार्टमेंट के मुख्य सचिव केके पाठक को भेजा है। शिकायत के बाद मुख्य सचिव हरकत में आए और जांच के लिए ज्वाइंट कमिश्नर कृष्णा पासवान और डिप्टी सेक्रेटरी निरंजन कुमार को भेजा।

उन्होंने देखा तो जब्त स्प्रिट के ड्रम खुले थे। स्प्रिट गायब थी। अब सैंपल पटना भेजा गया है। लोगों ने कहा है कि वहीं से चौकीदार और पुलिस की मदद से थाने से स्प्रिट की सप्लाई धंधेबाजों को की गई। कई कंटेनर के ढक्कन गायब हैं। बता दें कि पहले दिन मंगलवार को 5 मौतें हुई थीं। इसके बाद बुधवार को 25 और गुरुवार को 19 लोगों की जान गई। शुक्रवार सुबह तक 4 और लोगों की जान जा चुकी है। सबसे ज्यादा मौतें छपरा के मशरख, अमनौर और मढ़ौरा इलाकों में हुई हैं। ये लोग निजी क्लीनिकों में या घर पर इलाज करा रहे थे।

मृतकों में 3 लोग ऐसे भी शामिल है, जो खुद ही शराब बेच रहे थे। दूसरी तरफ पुलिस ने कार्रवाई करते हुए मशरख के थानेदार और चौकीदार को सस्पेंड कर दिया है। जबकि DM ने मढौरा के SDPO को ट्रांसफर करने और विभागीय कार्रवाई करने की अनुशंसा विभाग से की है। एक्साइज डिपार्टमेंट की 7 टीमें छापेमारी कर रही हैं। मशरख के अलग-अलग इलाके से 600 लीटर अवैध शराब बरामद हुई है। अब तक 48 घंटे में 150 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इधर, CM नीतीश कुमार ने गुरुवार को कहा था कि जहरीली शराब से शुरू से लोग मरते हैं। सबको अलर्ट रहना चाहिए, क्योंकि जब शराब बंदी है तो खराब शराब मिलेगी ही। जो शराब पियेगा वो मरेगा।

वहीं मशरख के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में 20 लोगों का इलाज चल रहा है। इधर, छपरा में बड़ी संख्या में शराब से मौत के बाद भी अवैध रूप से देसी शराब बेचने का धंधा जारी है। दरअसल, जलालगढ़ में थाने से 200 मीटर की दूरी पर खुलेआम शराब बिकती दिखी। यहां 90 रुपए बोतल शराब मिल रही थी। शराबकांड के बाद मशरख के थानेदार रितेश मिश्रा समेत 2 लोगों को सस्पेंड किया गया है। जांच के लिए SIT बनाई गई है। जहरीली शराब प्रकरण में अब तक दो प्राथमिकी दर्ज की गई है, जिसमें 4 की गिरफ्तारी हुई है। वहीं मौत का आंकड़ा थमने का नाम नहीं ले रहा है।

आप की राय

क्या सड़क हादसों को रोकने के लिए नियम और सख्त किए जाने चाहिए?
×
Latest news
Related news