Monday, December 5, 2022

OMG : इस गांव में रहते है जिन्दा भूत, इन लोगों को छूने मात्र से हो जाती है लोगों की मौत

मृत्यु वह घटना है जब आत्मा अपने पुराने शरीर को छोड़कर एक नया शरीर पाती है। कई बार उनकी मनोकामना पूरी हो जाती है, कई आत्माओं को नए शरीर धारण करने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ता है और इस बीच वे भूत की योनि में भटकते रहते हैं।

भूत, भूत, पिशाच आदि मृत्यु के बाद ही होते हैं। हम आत्माओं को अच्छे और बुरे में विभाजित कर सकते हैं, लेकिन जब भूत या पिशाच की बात आती है, तो उनके बारे में एक मान्यता है कि वे दुष्ट हैं, लेकिन हम आपको जीवित भूतों के बारे में बताएंगे, जिसके बाद भूतों के बारे में आपकी धारणा बदल जाएगी।

अफ्रीका, जहां वूडू नामक काला जादू की उत्पत्ति हुई। एक समुदाय ऐसा भी है जिसके लोग ‘जिंदा भूत’ कहलाते हैं। बेनिन अफ्रीका का एक शहर है, जो काला जादू जैसी चीजों में विश्वास करता है या जो इस शहर के बारे में जानना चाहता है, वह इसके बारे में जानता होगा। ऐसा इसलिए है क्योंकि बेनिन एकमात्र ऐसा शहर है जहां वूडू नामक खतरनाक काले जादू का पहली बार अभ्यास किया गया था। इस शहर में एक गुप्त समाज “इगुनगुन” रहता है, उन्हें जीवित भूत कहा जाता है।

इस जादू को करने वाले लोग इतने शक्तिशाली हो जाते हैं कि उन्हें छूना भी मुश्किल हो जाता है। इसलिए उन्हें जीवित भूत कहा जाता है। इन जीवित भूतों के बारे में यह मान्यता है कि जो कोई भी इन्हें छूता है उसकी तुरंत मृत्यु हो जाती है, यहां तक ​​कि जले हुए लोगों की भी मृत्यु हो जाती है। इस वजह से ये अपने शरीर को पूरी तरह ढक लेते हैं और अपने शरीर का कोई भी हिस्सा किसी के संपर्क में नहीं छोड़ते हैं।

ये लोग अपनी पहचान छिपाने के लिए अपना चेहरा ढक लेते हैं। जब गाँव के लोगों के बीच झगड़े या संघर्ष होते हैं, तो इगुनगुन का कार्य उनके बीच सुलह करना होता है। यह भी माना जाता है कि उस समय मृतक रिश्तेदारों की आत्मा उनमें प्रवेश करती है, जो मामले को सुलझाने के लिए अपनी राय देती है। इसलिए इगुंगुन की राय को अंतिम राय माना जाता है।

जब इगुनगुन लोग मामलों को सुलझाने के लिए बैठते हैं तो उनकी आवाजें तेज होती हैं और शब्द गंदले होते हैं। आपको यह भी बता दें कि इगुनगुन के साथ कुछ अंगरक्षक भी होते हैं, जिनका काम इगुनगुन और दूसरे लोगों के बीच दूरी बनाए रखना होता है ताकि दोनों में से किसी को भी परेशानी न हो. अगर इगुनगन लोग कहीं बैठकर आराम करते हैं, तो ये अंगरक्षक उनकी देखभाल करते हैं। इगुनगुन लोग ढोल बजाकर नाचते और गाते हैं, इगुनगुन लोग न तो अपना चेहरा दिखाते हैं और न ही अपनी असली पहचान किसी को बताते हैं।

आप की राय

क्या सड़क हादसों को रोकने के लिए नियम और सख्त किए जाने चाहिए?
×
Latest news
Related news