Sunday, September 25, 2022

Lok Sabha Elections 2024 : पंजाब में सिख उम्मीदवारों की तलाश में BJP, जानिए क्या है प्लान

Lok Sabha Elections 2024 : साल 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव में पंजाब में भाजपा के लिए एक बड़ी चुनौती है. चूंकि तीन दशकों में ऐसा पहली बार होगा जब भाजपा चुनाव मैदान में अकेले अपने उम्मीदवार उतारेगी. बताया जा रहा है कि भाजपा का शीर्ष नेतृत्व पंजाब में गठित होने वाली नई प्रदेश कार्यकारिणी में 50 फीसदी विश्वसनीय सिख नेताओं को शामिल करना चाहता है. पार्टी को अब तक पंजाब में एक हिंदूवादी राजनीतिक दल के रूप में देखा गया है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि भाजपा 13 लोकसभा सीटों में से अधिकांश पर मजबूत सिख उम्मीदवारों की तलाश कर रही है. इसकी एक वजह यह भी है राज्य के कुल मतदाताओं में करीब 58% भागीदारी सिख समुदाय की है. Lok Sabha Elections 2024

तीन केंद्रीय मंत्रियों के पास 9 लोकसभा क्षेत्रों का जिम्मा

भाजपा अब तक शिरोमणि अकाली दल (SAD) के साथ गठबंधन में छोटे भाई की भूमिका में थी, लेकिन विवादास्पद कृषि कानूनों के कारण दशकों पुराना यह गठबंधन टूट गया था. अब बीजेपी ने अपना आधार बढ़ाने के लिए 9 लोकसभा सीटों की जिम्मेदारी 3 केंद्रीय मंत्रियों को दी है. सूत्रों ने कहा कि केंद्रीय जल शक्ति मंत्री और पंजाब भाजपा प्रभारी गजेंद्र शेखावत, आनंदपुर साहिब, होशियारपुर और बठिंडा के प्रभारी हैं. केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री अर्जुनराम मेघवाल अमृतसर, जालंधर और गुरदासपुर देख रहे हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया पटियाला, संगरूर और लुधियाना के प्रभारी हैं. भाजपा के एक नेता ने कहा कि पार्टी जल्द ही नेताओं को अन्य सीटों का प्रभारी नियुक्त करेगी. Lok Sabha Elections 2024

कांग्रेस से आए नेताओं को मिलेंगे अहम ओहदे

शेखावत ने प्रदेश भाजपा में बदलाव की संभावना से इनकार नहीं किया है. उन्होंने कहा है कि तुरंत बदलाव का कोई कारण नहीं है, लेकिन आने वाले दिनों में पार्टी को मजबूत करने के लिए ऐसा किया जा सकता है. कहा जा रहा है कि पिछली कांग्रेस सरकार में पूर्व स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू, जो हाल ही में भाजपा में शामिल हुए थे, आनंदपुर साहिब लोकसभा सीट से उम्मीदवार हो सकते हैं. भाजपा में 3 सिखों मंजीत सिंह राय, राजिंदर मोहन सिंह चिन्ना और हरजीत सिंह ग्रेवाल की स्पष्ट उपस्थिति है. अब भाजपा में शामिल हुए कांग्रेस के सिख नेताओं को अहम पदों की पेशकश की जा सकती है. इनमें पूर्व कैबिनेट मंत्री राणा गुरमीत सोढ़ी, बलबीर सिद्धू और गुरप्रीत कांगड़ शामिल हैं.

आप की राय

क्या सड़क हादसों को रोकने के लिए नियम और सख्त किए जाने चाहिए?
Latest news
Related news