Tuesday, November 29, 2022

IND vs SA T20: भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच दूसरे टी20 मुकाबले में ‘विलेन’बारिश बन सकती है

IND vs SA T20: भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच आज होने वाले दूसरे टी20 मुकाबले से पहले आसमान पर छाये बादलों ने आयोजकों और प्रशंसकों को चिंतित कर दिया है क्योंकि इससे इसी स्टेडियम में भारी बारिश के कारण रद्द हुए पिछले अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच की याद ताजा हो आयी हैं.

कोविड-19 महामारी के बाद यह पहला अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच है जिसकी सारी टिकटें बिक चुकी हैं. बारसापारा स्टेडियम में पिछला अंतरराष्ट्रीय मैच पांच जनवरी 2020 को भारत और श्रीलंका के बीच टी20 मैच था जिसे लगातार बारिश के कारण रद्द करना पड़ा था. IND vs SA T20

राहुल द्रविड़ ने कही यह बात

मैच से पहले मीडिया से मुखातिब हुए भारतीय मुख्य कोच राहुल द्रविड़ ने कहा कि स्टेडियम में दर्शकों को फिर से देखना शानदार है. द्रविड़ ने कहा, ‘जून के बाद से जब से सारी पाबंदियां हटी हैं, जब भी हम भारत में खेलते हैं तो सारे स्टेडियम खचाखच भरे होते हैं. यह देखना शानदार है.’ क्षेत्रीय मौसम विभाग ने रविवार को गुवाहाटी में आंशिक रूप से बादल छाये रहने की भविष्यवाणी की है जिसमें गरज के साथ एक या दो बार बारिश भी हो सकती है.

बेहतरीन पिच कवर मंगाये गये हैं

आयोजकों ने हालांकि कहा कि उन्होंने बारिश के कारण समय बरबादी को कम करने के लिये सभी इंतजाम किये हैं. असम क्रिकेट संघ ने अमेरिका से दो ‘बहुत ही हल्के’ पिच कवर मंगाये हैं. संघ के सचिव देवाजीत साइकिया ने कहा था, ‘ये दोनों आयात किये गये कवर सुनिश्चित करेंगे कि पानी या नमी पिच में नहीं जाये.’ जबकि कई मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि गुवाहाटी में बारिश के बाद मैदान को सुखाने की कोई खास व्यवस्था नहीं है.

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भी बारिश से प्रभावित हुआ था मैच

बता दें कि ऑस्ट्रेलिया की टीम ने जब भारत का दौरा किया था तब 23 सितंबर को नागपुर में खेले गये दूसरे टी20 मुकाबले में बारिश ने खासा परेशान किया था. नागपुर में खेले गये इस मुकाबले को आखिरी समय में आठ-आठ ओवरों का खेला गया था. बारिश के बाद आउटफिल्ड गीली होने के कारण खेल विलंब से शुरू हुआ. भारत ने वह मुकाबला छह विकेट से जीता था. तब आउटफिल्ड गीली होने के बाद कहा गया था कि खिलाड़ियों की सुरक्षा सर्वोपरी है. IND vs SA T20

आप की राय

क्या सड़क हादसों को रोकने के लिए नियम और सख्त किए जाने चाहिए?
×
Latest news
Related news