Thursday, December 8, 2022

Foundation Day : इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय में भव्य प्रस्तुतियां, याद की गई राजपरिवार की दानशीलता

खैरागढ़। इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय खैरागढ़ ने अपना 66वाँ स्थापना दिवस (14 अक्टूबर) धूमधाम से मनाया। पूर्व संध्या शानदार सांस्कृतिक प्रस्तुतियाँ हुईं, जबकि 14 अक्टूबर को विश्वविद्यालय परिवार परिसर क्र. 01 में एकत्र हुआ, जहाँ कुलपति पद्मश्री डाॅ. मोक्षदा (ममता) चंद्राकर, कुलसचिव प्रो. डॉ. आईडी तिवारी, समस्त अधिष्ठाता के द्वारा संस्थापकगण स्व.राजा वीरेन्द्र बहादूर सिंह, स्व. रानी पद्मावती देवी एवं स्व.राजकुमारी इंदिरा की मूर्तियों पर माल्यार्पण किया गया। कुलपति डाॅ. चंद्राकर ने सभी शिक्षकों, विद्यार्थियों, शोधार्थियों, अधिकारियों, कर्मचारियों, संगतकारों समेत सभी को स्थापना दिवस की बधाई एवं शुभकामनाएँ दीं। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने प्रो. डाॅ. नमन दत्त के निर्देशन में कुलगीत की सामूहिक प्रस्तुति दी। कुलपति डाॅ. चंद्राकर ने कुलगीत की रचना के संबंध में विस्तार से बताते हुए कहा कि उसमें उल्लेखित पंक्तियों के अनुसार विश्वविद्यालय उत्तरोत्तर प्रगति कर रहा है। संचालन हिंदी विभाग की सहायक प्राध्यापक डॉ. देवमाइत मिंज ने किया।

इसके पहले, 13 अक्टूबर की शाम 5 बजे विश्वविद्यालय के परिसर क्रमांक 02 स्थित ऑडिडिटोरियम में ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के अंतर्गत स्थापना दिवस पर आधारित शानदार मंचीय कार्यक्रम हुआ।इस कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के भरतनाट्यम विभाग द्वारा तीन भव्य प्रस्तुतियाँ दीं गई।

यहां, भरतनाट्यम विभाग अपने विभिन्न प्रयोगों के लिए सराहना पात्र रहा हैै। इसी कड़ी में भरतनाट्यम विभाग की सहायक प्राध्यापक डाॅ. मेदिनी होम्बल के निर्देशन में एक बार फिर नवाचार स्वरूप “वसुधैव कुटुम्बकम्” की प्रस्तुति दी गई। इस प्रस्तुति के अंतर्गत भरतनाट्यम के विद्यार्थियों ने परंपरा, प्रयोग और प्रश्न शीर्षक के साथ नृत्य की क्रमशः तीन प्रस्तुतियाँ दीं। तीनों प्रस्तुतियों ने खूब तालियाँ बटोरीं।

विश्वविद्यालय के स्थापना दिवस पर आधारित इन दोनों अवसरों पर कुलसचिव प्रो. डाॅ. आई.डी.तिवारी, प्रख्यात फिल्म निर्माता, निर्देशक प्रेम चंद्राकर, समस्त अधिष्ठातागण, शिक्षकगण, विद्यार्थीगण, शोधार्थीगण, अधिकारी-कर्मचारीगण, विश्वविद्यालय परिवार मौजूद था।

आप की राय

क्या सड़क हादसों को रोकने के लिए नियम और सख्त किए जाने चाहिए?
×
Latest news
Related news