Wednesday, April 24, 2024

अपने झुंड से बिछड़कर गांव में घुसा भालू

 

वन विभाग को सूचना देने के बाद भी समय पर नही पहुँचती है टीम

कवर्धा ब्यूरो महादेव सोनी की ग्राउंड रिपोर्ट : कबीरधाम जिले के पंडरिया ब्लाक के सुदूर वनांचल ग्राम कामठी क्षेत्र में जंगली भालू को गांव में देखना लगता है अब बहुत आम बात हो गई है ! वन विभाग की लापरवाही के कारण यह सप्ताह में दूसरी बार है की गांव में भालू जैसे जंगली जानवर बहुत आसानी से विचरण कर रहे है आसपास के ग्रामीणों के द्वारा पत्थर मारकर व हल्ला कर मुश्किल से भालू को जंगल की तरफ भगाया जा सका ।

वन विभाग की निष्क्रियता के कारण ऐसे विलुप्त हो रहे जानवरों का शिकार घात लगाकर बैठे शिकारियों के द्वारा आसानी से किया जा सकता है भालू के नाखून व दांत का इस्तेमाल दवा बनाने में किया जाता है ।

ग्रामीणों का कहना है कि वन विभाग के कर्मचारी मुख्यालय में निवासरत नही रहते साथ ही चौकीदार भी कोई देख रेख नही करते ।
समय रहते वन विभाग के द्वारा भालुओ के संरक्षण के लिये उचित कदम नही उठाये गए तो वो दिन दूर नही जब भालू भी गिनती के रह जाएंगे । ज्ञात हो कि पिछले साल पोलमी क्षेत्र में एक हिरण का शिकार कर शिकारियों द्वारा हिरण के मांस को नदी किनारे दबा दिया था । वन विभाग की टीम द्वारा पूछताछ में 20 लोगो को गिरफ्तार किया गया था ।

आप की राय

[yop_poll id="1"]

Latest news
Related news