Sunday, December 4, 2022

नहीं रही ‘दामिनी’, क्लास में कपड़े उतरवाए जाने के बाद कर लिया था आत्मदाह

जमशेदपुर: भुइयांडीह स्थित छायानागर में 9वीं कक्षा की छात्रा ने केरोसिन छिड़ककर आत्मदाह का प्रयास किया था। घटना के बाद उसे इलाज के लिए एमजीएम अस्पताल और फिर टीएमएच रेफर कर दिया गया था। इधर, घटना के छह दिन बाद गुरुवार रात 8 बजे उसने टीएमएच के बर्न वार्ड में अंतिम सांसे ली। बुधवार रात ही उसकी तबियत बिगड़ने लगी जिसके बाद उसे वेंटीलेटर पर रखा गया था। उसके निधन की पुष्टि जमशेदपुर के सिटी एसपी ने भी की है। वहीं छात्रा के निधन के बाद माहौल को देखते हुए अस्पताल परिसर में पुलिस बल की भी तैनाती कर दी गई थी।

‘दामिनी’ ने घर में किया था आत्मदाह
आपको बता दे कि साकची शारदामणि स्कूल में इसी 14 अक्टूबर को परीक्षा में नकल करते पकड़े जाने पर शिक्षिका चंद्रा दास ने नौवीं की छात्रा के कपड़े उतरवा दिये थे। इस घटना से आहत ‘दामिनी’ (बदला हुआ नाम) ने घर जाने के बाद केरोसिन तेल डालकर आत्मदाह कर लिया था। तब से वो टीएमएच के बर्न यूनिट में मौत से जंग लड़ रही थी। लेकिन गुरुवार को इलाज के क्रम में मौत हो गई। उसकी मौत की सूचना मिलने के बाद परिजनों में मातम पसर गया। इसके बाद लोगों का टीएमएच में जुटान भी शुरू हो गया।

प्रशासन को संभालना पड़ा मोर्चा
इसको लेकर प्रशासन ने टीएमएच की सुरक्षा बढ़ा दी। छात्रा की मौत की खबर पाकर खुद एडीएम विधि व्यवस्था नंद किशोर लाल, सिटी एसपी के विजय शंकर, सीतारामडेरा, बिष्टुपुर थाना प्रभारी ने मोर्चा संभाला। उधर, पोस्टमार्टम के लिए डॉक्टरों को भी तैयार कर दिया गया। छात्रा के आत्मदाह करने की घटना के बाद मुखी समाज और छात्र संगठनों ने परिजनों के साथ डीएसई कार्यालय में तालाबंदी कर दी थी। कई दिनों तक स्कूल भी बंद रहा था। इस मामले ने तूल पकड़ लिया था, जिसके बाद सरकार के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, डीसी विजया जाधव भी टीएमएच आए थे। लोगों के आक्रोश को देखते हुए अगले दिन ही पुलिस ने शिक्षिका चंद्रा दास को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

आप की राय

क्या सड़क हादसों को रोकने के लिए नियम और सख्त किए जाने चाहिए?
×
Latest news
Related news