Monday, October 3, 2022

छत्तीसगढ़ के लाल का दुबई में हुआ सम्मान, दुनिया ने माना होमियोपैथी के क्षेत्र में डॉ.उत्कर्ष त्रिवेदी का लोहा

रायपुर। दुबई में दुनिया भर के होम्योपैथी डॉक्टर्स का पहला ऐतिहासिक मिलन कार्यक्रम हुआ। कार्यक्रम में 25 देशों से ज्यादा से होम्योपैथी के ख्यातिप्राप्त डॉक्टर्स ने शिरकत की। चाहे जर्मनी हो या रूस, यूएसए हो या फिलीपिंस, ब्राजील हो या बंगलादेश सबने माना, भारत बहुत तेजी से होम्योपैथी के क्षेत्र में उभर रहा है।

डॉ.उत्कर्ष त्रिवेदी

दुनियाभर में छत्तीसगढ़ को एक नई पहचान दिलाने वाले डॉ. उत्कर्ष त्रिवेदी की सराहना पूरे देश में हो रही है,डॉक्टर उत्कर्ष त्रिवेदी एक युवा चिकित्सक है और काफ़ी कम समय में इन्होंने अपनी अलग पहचान बनाई है ,करोना काल के समय इन्होंने दिन रात मरीजो की सेवा की व लगभग होमियोपैथी दवाई के ज़रिए 20000 से अधिक लोगों की जान बचाई व 400000 से अधिक मरीज़ों को निःशुल्क होमियोपैथी की प्रतिरोधक दवाई बाटी व कई सारे असाध्य मरीज़ों को इन्होंने होमियोपैथी चिकित्सा पद्धति से ठीक किया,यही कारण था जो इन्हें विश्व के टॉप 20 होमियोपैथी विशेषज्ञों की टीम में शामिल कर प्राइड आफ होमियोपैथी सम्मान भारतीय टीम के पूर्व कप्तान मोहम्मद अज़ार व डॉ नीतीश दुबे के हाथों प्राप्त हुवा .इस सम्मान के लिए डॉ उत्कर्ष त्रिवेदी ने डॉ नीतीश दुबे जी व पूरे बर्नेट होमियोपैथी परिवार का आभार प्रकट किया.

कार्यक्रम में जर्मनी के डॉ. वैट्रिक्स जेवनर, यूएसए के निधान जेलकेफली, फिलीपीन्स के जेएल बाललॉंग, बांग्लादेश के मो. जहांगीर आलम, स्वीडन के नील्स बॉक्सट्राम, मलेशिया के जेनेयी बालकृष्णन, थाइलैंड के पार्नशेप सिरिनिरूला, यूके के प्रो. रोनाल्ड जार्ज, ब्राजील के प्रो. लिओनी बोनामीन, कनाडा के इना डोलोपास्की, यूएई के डॉ. शमसूर आलम,हंगरी के अन्ना कोवालीक, इटली के सैंटानेरा, लातीव के गुना ब्लमबरज, रूस के ओल्गा लेवीना, यूएसए के डाना उल्मन समेत कई हस्तियों से शिरकत की।

अतिथि के रूप में भारतीय टीम के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन,एवं डॉ नीतीश चंद दुबे,आजमगढ़ के लोकप्रिय सांसद भोजपुरी स्टार दिनेश लाल निरहुआ पूर्व क्रिकेटर श्रीशांत, हरभजन सिंह दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी,मंदिरा बेदी बालीवुड स्टार,भोजपुरी स्टार अक्षरा सिंह जी बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री रेणु देवी जी एवं अरिजीत चौबे जी उपस्थित हुवे.

आप की राय

क्या सड़क हादसों को रोकने के लिए नियम और सख्त किए जाने चाहिए?
Latest news
Related news