Tuesday, December 20, 2022

बिना एंटीबायोटिक मिनटों में गले की खराश-जलन से मिलेगी राहत, इन चीजों का ऐसे करे सेवन

कुछ समय पहले तक गले में खराश को सर्दी का एक सामान्य लक्षण माना जाता था। लेकिन, आजकल गले में खराश, निगलने में दर्द या खरोंच महसूस होना कई गंभीर बीमारियों का संकेत हो सकता है। इसमें घातक इंफेक्शन COVID-19,रेस्पिरेटरी सिंकिटियल वायरस (RSV), और तेज फ्लू शामिल हैं।

ठंड के वजह से होने वाला गले में खराश ज्यादातर एक हफ्ते में खुद-ब-खुद ठीक हो जाता है। लेकिन आपका डॉक्टर जल्दी रिकवरी के लिए एंटीबायोटिक लिख सकते हैं। हालांकि, कुछ घरेलू नुस्खों से भी आप इस परेशानी को खत्म कर सकते हैं।

शहद

रिसर्च गेट में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, गले में इन्फेक्शन के लिए शहद सबसे अच्छा घरेलू उपाय है। शहद में एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल गुण होते हैं, जो खांसी और सर्दी के लक्षणों को दूर करने में मदद करते हैं। इसके अलावा, यह गले के दर्द के लिए भी एक प्रभावी उपाय है।

कैसे इस्तेमाल करें

गले में खराश और खांसी से राहत पाने के लिए ताजे अदरक के पेस्ट के साथ शहद का उपयोग आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

​अदरक

एनसीबीआई की रिपोर्ट के अनुसार, अदरक में जिंजरोन और जिंजरोल जैसे यौगिक होते हैं, जो शरीर में प्रवेश करने वाले बैक्टीरिया और वायरस को रोकने का काम करते हैं। जिससे गले में खराश सहित कई स्थितियों के जोखिम को कंट्रोल करने में मदद मिलती है।

कैसे इस्तेमाल करें

एक कप पानी में ताजा अदरक के कुछ स्लाइस उबालकर अदरक की चाय बनाएं, और राहत के लिए इसे दिन में 2-3 बार पिएं।

​हल्दी

हल्दी में करक्यूमिन नामक एक पॉलीफेनोल होता है। इसमें एंटीवायरस, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सीडेंट और एंटी फंगल गुण होते हैं। यह वायरल संक्रमण के लक्षणों को रोकने के लिए इम्यूनिटी को बूस्ट करने का काम करता है। ऐसे में हल्दी गले के दर्द के लिए एक प्रभावी उपचार हो सकता है।

कैसे इस्तेमाल करें

गर्म दूध में थोडा सा हल्दी पाउडर डाल कर अच्छी तरह से मिला लें और इसे दिन में 2-3 बार पिएं।

​काली मिर्च

काली मिर्च में क्वेरसेटिन होता है जो सर्दी और खांसी के लक्षणों को कंट्रोल करने और इम्यूनिटी को बूस्ट करने का कार्य करता है। इसमें एंटीवायरस, एंटी बैक्टीरियल और एक्सपेक्टोरेशन गुण भी होते हैं, जो श्वसन पथ में बलगम और कफ के जमाव को हटाने में मदद करते हैं।

कैसे इस्तेमाल करें

थोड़ा गर्म पानी लें और दो चुटकी भर काली मिर्च पाउडर मिलाएं। अब इसे अच्छे से मिलाकर इसका सेवन करें।

​दालचीनी

दालचीनी में एंटीवायरस, एंटीऑक्सीडेंट, एंटीमाइक्रोबियल और एंटी फंगल गुण होते हैं। जो इम्यूनिटी सिस्टम को बेहतर बनाते हैं। दालचीनी के नियमित सेवन से गले में संक्रमण होने की संभावना कम हो सकती है।

कैसे इस्तेमाल करें

थोड़े से दूध में एक चुटकी दालचीनी और अदरक का पाउडर और थोड़ा सा शहद मिलाएं। गले के दर्द से राहत पाने के लिए इस दालचीनी वाले दूध को दिन में दो बार पिएं।

​हींग

हींग की जड़ें प्राकृतिक एंटीवायरस यौगिक पैदा करती हैं। जो कफ के दवा के रूप में काम करती है। इसलिए यह काली खांसी में बहुत फायदेमंद मानी जाती है। हींग की गंध मात्र में बैक्टीरिया से लड़ने की क्षमता होती है। ऐसे में गले के दर्द के लिए आप हींग का सेवन कर सकते हैं।

कैसे करें इस्तेमाल

एक गिलास पानी में एक चम्मच हींग पाउडर, थोड़ी मात्रा में अदरक पाउडर और शहद मिलाएं। गले की खराश से राहत पाने के लिए इस मिश्रण को दिन में दो बार पिएं।

आप की राय

क्या सड़क हादसों को रोकने के लिए नियम और सख्त किए जाने चाहिए?
×
Latest news
Related news