Thursday, December 22, 2022

AIIMS Server Down: हैकर्स ने एम्स से मांगे थे क्रिप्टो में 200 करोड़ रुपये

AIIMS Server Down: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) का सर्वर लगातार 6 दिनों से डाउन चल रहा है। इस मामले में बड़ा अपडेट सामने आया है। हैकर्स ने एम्स से 200 करोड़ रुपये की मांग की है। हैकर्स ने क्रिप्टो करेंसी के माध्यम से 200 करोड़ रुपये की मांग की है। 6 दिनों के बाद हैकर्स की तरफ से पैसों की डिमांड के बाद जांच एजेंसियां अलर्ट मोड पर हैं।

एम्स ने नहीं कही 200 करोड़ रुपये की मांग की बात

एम्स की तरफ से कहा गया है कि डेटा बहाली और सर्वर पर तेजी से काम चल रहा है। डेटा की मात्रा और अस्पताल सेवाओं के लिए बड़ी संख्या में सर्वर के कारण समय लग रहा है। साइबर सुरक्षा के लिए उपाय किए जा रहे हैं। जब तक सर्वर नॉर्मल नहीं हो जाता तब तक सभी अस्पताल सेवाएं, आउट पेशेंट, इन-पेशेंट, प्रयोगशालाएं मैनुअल मोड पर चलती रहेंगी। (AIIMS Server Down)

करोड़ों मरीजों का डेटा प्रभावित

सेंधमारी का बुधवार को सुबह पता चला था। आशंका जताई जा रही है कि सेंधमारी के कारण लगभग 3-4 करोड़ मरीजों का डेटा प्रभावित हो सकता है। सूत्रों ने कहा कि सर्वर डाउन होने के कारण आपातकालीन इकाई में रोगी देखभाल सेवाएं, बाह्य रोगी, भर्ती रोगी और प्रयोगशाला अनुभाग को कागजी रूप से प्रबंधित किया जा रहा है। भारतीय कंप्यूटर आपात प्रतिक्रिया दल (सर्ट-इन), दिल्ली पुलिस और गृह मंत्रालय के प्रतिनिधि रैंसमवेयर हमले की जांच कर रहे हैं।

दिल्ली पुलिस ने दर्ज किया मामला

रैंसमवेयर हमले के कारण कंप्यूटर तक पहुंच बाधित हो जाती है और पहुंच देने के लिए हैकर धन की मांग करते हैं। दिल्ली पुलिस की इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटेजिक ऑपरेशंस (आईएफएसओ) इकाई द्वारा 25 नवंबर को जबरन वसूली और साइबर आतंकवाद का मामला दर्ज किया गया था।

इस बीच, एनआईसी ई-हॉस्पिटल डेटाबेस और ई-हॉस्पिटल के लिए एप्लिकेशन सर्वर बहाल कर दिए गए हैं। एक आधिकारिक सूत्र ने कहा कि राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) की टीम एम्स में स्थित अन्य ई-हॉस्पिटल सर्वर से ‘इन्फैक्शन’ को स्कैन और साफ कर रही है, जो अस्पताल सेवाओं के वितरण के लिए आवश्यक हैं। ई-हॉस्पिटल सेवाओं को बहाल करने के लिए व्यवस्थित किए गए चार सर्वर को स्कैन करके डेटाबेस और एप्लिकेशन के लिए तैयार किया गया है।.

उन्होंने कहा कि एम्स के नेटवर्क को वायरस मुक्त करने का काम चल रहा है। सर्वर और कंप्यूटर के लिए एंटी-वायरस समाधान व्यवस्थित किए गए हैं। यह 5,000 में से लगभग 1,200 कंप्यूटर पर स्थापित किया गया है। सूत्र ने कहा कि 50 में से 20 सर्वर को स्कैन किया जा चुका है और यह गतिविधि लगातार की जा रही है।.

सूत्र ने कहा, ‘‘नेटवर्क को ठीक करने का काम पांच और दिनों तक जारी रहने की संभावना है। इसके बाद, ई-अस्पताल सेवाओं को चरणबद्ध तरीके से शुरू किया जा सकता है। आपातकालीन, बाह्य रोगी, भर्ती रोगी, प्रयोगशाला जैसी सेवाओं सहित रोगी देखभाल सेवाओं का काम हाथ से किया जा रहा है। (AIIMS Server Down)

आप की राय

क्या सड़क हादसों को रोकने के लिए नियम और सख्त किए जाने चाहिए?
×
Latest news
Related news